बरसती ओस की बूंदों से भीगी धरती, ओस रबी फसलों के लिए संजीवनी, ठंडक बढ़ी तो आमजन ठिठुराया

0

समाचार गढ़ 19 जनवरी 2021। पल-पल बदलते मौसम का मिजाज किसी के समझ में नहीं आ रहा है। पिछले तीन-चार दिनों से तापमान लगातार ऊपर-नीचे हो रहा है। जबकि मंगलवार की सुबह की शुरूआत घन कोहरे से हुई है और पूरा ग्रामीण इलाका कोहरे की सफेद चादर से घिरा हुआ है। कोहरे व धुंध की ओस रूपी बूंदें हल्की-फुल्की बरस रही है। जिससे धरती भीगी नजर आ रही है। ओस की बरसती बूंदें रबी फसलों के लिए किसी संजीवनी से कम नहीं है। इससे फसलों को भरपूर फायदा होगा। किन्तु आमजन की दिनचर्या प्रभावित हुई है और रेलगाड़ियों एवं राजमार्गों पर सरपट दौड़ने वाले वाहनों पर साफ प्रभाव नजर आ रहा है और हेडलाइट जलाकर धीमी गति से चलते नजर आ रहे है।
उत्तरी-पश्चिमी हवाओं से सर्द हुआ मौसम
उत्तर पश्चिमी हवाएं चलने से सोमवार को शाम ढलते ही मौसम सर्द हो गया। इससे ठिठुरन बढ़ी। इसके चलते बाजारों में जल्द ही सन्नाटा पसरा नजर आया। जबकि सोमवार को दिनभर तेज सर्दी का असर रहा और दिनभर हल्की धुंध की चादर वातावरण में छा गई। सोमवार की सुबह की शुरूआत भी कोहरे से हुई और पूरा ग्रामीण इलाका कोहरे की सफेद चादर से घिरा रहा। मौसम विभाग सर्द हो गया। दोपहर बाद हल्की धूप के दर्शन हुए। धीरे-धीरे कोहरा छंटने लगा। लेकिन धूप में तेजी नहीं दिखी। हल्की हवा ने ठंडक बनाए रखी। किन्तु शाम को चार बजे के आसपास फिर से हल्का कोहरा छाने लगा और उत्तर पश्चिमी हवाएं चलने लगी। जिससे ठिठुरन बना रही है। इस दौरान मौसम विभाग ने अधिकतम पारा 18.6 एवं न्यूनतम तापमान 8.5 डिग्री दर्ज किया। जबकि रविवार को अधिकतम पारा डिग्री 25.4 डिग्री था, जो 7 डिग्री कम रहा। न्यूनतम तापमान लगभग 2 डिग्री कम दर्ज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here