भ्रष्ट राशन डिपो होल्डरों को शीघ्र हटाए सरकार

0

समाचारगढ़ (अशोक पारीक) श्रीडूंगरगढ़ । गरीब, मजदूरों और जरूरतमंद , विकलांगों , विधवाओं और पीड़ितों को दैनिक जीवन यापन के लिए सरकारों द्वारा उपलब्ध कराए जाने वाली राशन सामग्री में भ्रष्टाचार आमजन के साथ एक अन्याय है ।  युवा लीडर डॉ विवेक माचरा ने राज्य सरकार से मांग की है कि गांवों के जरूरतमंद लोगों द्वारा निरंतर कई राशन डिपो होल्डरों की निरंतर शिकायत को ध्यान में रखते हुए उन पर तुरंत कार्यवाही कर उनको हटाया जाए ताकि सरकारी राहत जरूरतमंद तक सुचारू रूप से पहुंच सके । डॉ विवेक माचरा ने बताया कि बदलती सरकारों में नेताओं द्वारा अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के लिए राशन डिपो होल्डरों को बदला जाना और ग्रामीणों की शिकायतों के बावजूद उनका सरंक्षण राशन व्यवस्था के लिए नासूर बन चुका है , जिसको शीघ्र सही किया जाना आवश्यक है। डॉ विवेक माचरा ने राज्य सरकार से मांग की है कि जिला रसद विभाग की उदासीनता के चलते और भ्रष्ट राशन डिपो होल्डरों के राजनैतिक रसूखों के चलते गांवों में भारी आक्रोश है , जिसके चलते जिला प्रशासन को भ्रष्टाचारियों पर सख्त कार्यवाही करनी चाहिए । श्रीडूंगरगढ़ अंचल के गांवों में जहां एक ओर वंचितों और जरुरतमंदों की हजारों की संख्या में लाईन लगी हुई है फिर भी वो खाद्य सुरक्षा जैसी योजनाओं से वंचित है, दूसरी ओर राशन डिपो होल्डर जम कर राशन सामग्री में भ्रष्टाचार कर रहे हैं , जिसको किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। कोरोना वैश्विक महामारी जैसे समय में भी दाल, चावल, तेल जैसी राशन सामग्री का श्रीडूंगरगढ़ के राशन डिपो से गायब रहना जिला रसद विभाग की घोर लापरवाही है और ग्रामीणों द्वारा निरंतर शिकायतों के बावजूद रसूखदार डिपो होल्डरों पर विभाग कार्यवाही नहीं कर रहा जो लोकतंत्र के लिए सही नहीं है । राज्य सरकार और जिला रसद विभाग शीघ्र ही उचित कार्यवाही नहीं करेगा तो उग्र आंदोलन किया जाएगा ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here