पोटाश के नमूने संरक्षित रखने के लिए लाईब्रेरी का हुआ उद्घाटन, वैज्ञानिक वीरेन्द्र ने सन् 1970 में लखासर क्षेत्र में पोटाश होने की पहली बार की थी खोज

0

समाचार-गढ़ 22 फरवरी 2021। लखासर। पोटाश को अपने भूगर्भ में छुपाए हुए लखासर गांव में पोटाश के नूमने संरक्षित रखने के लिए सोमवार को लाईब्रेरी का उद्घाटन हुआ। भारतीय भू वैज्ञानिक सर्वेक्षण पश्चिमी क्षेत्र जयपुर के अपर महानिदेशक एवं विभागाध्यक्ष पी.वी.रमण मूर्ति, उपमहानिरीक्षक डां. संजय दास, निदेशक डां. एस.के गुप्ता के सान्निध्य में लखासर गांव में विभाग की ओर से पोटाश के नूमने सुरक्षित रखने लिए लाईब्रेरी की शुरूआत की गई है। लखासर में स्थापित लाईब्रेरी का नाम वैज्ञानिक वीरेन्द्र के नाम पर रखा गया है। वैज्ञानिक वीरेन्द्र ने सन् 1970 में लखासर क्षेत्र में पोटाश होने की पहली बार खोज की थी। जानकारी के अनुसार कस्बे के सामाजिक कार्यकर्ता तोलाराम मारू भी लखासर में पोटोश को संरक्षित रखने को लेकर लम्बे समय से मांग कर रहे थे। इस अवसर पर लखासर सरपंच चंदादेवी खिलेरी, उपसरपंच सज्जन सिंह, सरपंच प्रतिनिधि गोवर्धन खिलेरी, पूर्व सरपंच लक्ष्मण खिलेरी, मुखराम गोयल आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here