जोहड़ पायतन में आयोजित हुई बैठक, तहसीलदार ने दिखाई हरी झंडी

0

समाचार-गढ़ श्रीडूंगरगढ़। उन्नति विकास शिक्षण संगठन द्वारा शामलात शोध यात्रा का शुभारंभ आज मंगलवार को श्रीडूंगरगढ़ तहसील लखासर गांव से हुआ। उन्नति विकास शिक्षण संगठन के साथ उरमूल ट्रस्ट व यूरोपियन संघ के सहयोग से निकाली जा रही शामलात शोध यात्रा को श्रीडूंगरगढ़ तहसीलदार महावीर प्रसाद ने लखासर गांव से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस अवसर पर लखासर गांव के जोहड़ पायतन में आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए तहसीलदार महावीर प्रसाद ने कहा कि शामलात संसाधनों का संरक्षण, सुरक्षा, विकास और प्रबंधन समस्त जीव जगत और प्रकृति संतुलन के लिए जरूरी है। उरमूल ट्रस्ट के सचिव रमेश सारण बताया कि पारंपरिक जल स्त्रोत मरुधरा में जीवन यापन का जरिया है। लेकिन वर्तमान समय मे लोग वैकल्पिक व्यवस्थाओ पर ज्यादा भरोसा कर रहे है। जो कि भावी पीढ़ी के लिए शुभ संकेत नही है। उन्नति विकास शिक्षण संगठन के कार्यक्रम अधिकारी तोलाराम चौहान ने शामलात शोध यात्रा का उद्देश्य की स्पष्ट करते हुए बताया कि इस यात्रा के माध्यम से पारंपरिक जल स्त्रोतों, ओरण, गौचर आदि शामलात संसाधनों का संरक्षण, सुरक्षा एवं प्रबंधन करने की जानकारी देना है। ताकि विपरीत परिस्थितियों में इन संसाधनों में इन पारंपरिक समाधानों का उपयोग हो सके। इस अवसर पर लखासर सरपंच प्रतिनिधि गोर्वधन खिलेरी, ठुकरियासर सरपंच अमरा राम, सुरजनसर सरपंच ओम प्रकाश, उरमूल कार्यक्रम अधिकारी रेवंत राम ने भी अपने विचार रखे। मंगलवार को लखासर, समंदसर, गजपुरा व मणकरासर गांव में बैठकों का आयोजन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here