किसानों के लिए जरूरी खबर, कृषि मण्डी में 15 अप्रेल से शुरू होगी कृषि जिंसो की खरीद

0

समाचार-गढ़। कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी के चलते देश भर में 14 अप्रैल तक लाॅकडाउन की घोषणा के तहत कृषि उपज मंडी में भी 14 अप्रैल तक व्यापार बन्द किया था। अनाज मण्डी व्यापार संघ के अध्यक्ष श्यामसुन्दर पारीक ने बताया कि अभी कोरोना वायरस का संकमण रुका नहीं है। फिर भी व्यापार निरन्तर बाधित चलने से किसानों की तैयार रबी की फसल गेहूं, चना, सरसों, मैथी, जौ आदि कृषि उपज मन्डी में विक्रय नहीं होने के कारण खेत खलिहानों में निकली हुई तैयार पड़ी है। जिससे किसानों को परेशानी हो रही है। वहीं दूसरी ओर आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति व सप्लाई चैन बुरी तरह प्रभावित हो रही है। इस वजह से कृषि उपज मंडी में 15 अप्रैल 2020 बुधवार से फिर से व्यापार आरम्भ करने का निर्णय लिया गया है। लेकिन वायरस के अनियंत्रित संकमण को देखते हुए कृषि उपज मंडी प्रशासन व व्यापार संघ ने मन्डी में व्यापार शरु करने के लिए एक कार्ययोजना निर्धारित की है। जिसके अंतर्गत सोशल डिस्टेंसीग व व्यापारी, किसान, मजदूर, मुनीम आदि सभी वर्गों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कुछ प्रोटोकॉल निर्धारित किये है। इन्हीं नियमों के तहत कृषि उपज मंडी में व्यापार संचालीत होगा। कृषि उपज मंडी में अपनी कृषि उपज विक्रय के लिए लाने वाले किसान को पहले अपने सम्बन्धीत व्यापारी से प्रवेश पास लेना पड़ेगा सम्बन्धीत व्यापारी को यह पास किसान का नाम गांव का नाम वाहन संख्या मोबाइल नंबर के साथ पुरी जानकारी अपने लेटर हेड पर कृषि उपज मंडी कार्यालय में उपलब्ध करवानी पड़ेगी फिर व्यापार संघ के सहयोग से सम्बन्धीत व्यापारी को किसान का कृषि मन्डी का प्रवेश पास जारी किया जायेगा। प्रवेश द्वार पर तैनात पुलिस कर्मी उक्त पास देख कर ही किसान को कृषि उपज मंडी में प्रवेश देगा। फिर किसान को गेट के पास रखे सेनेटाइजर से हाथ साफ करना होगा। उसके पश्चात किसान ओर वाहन को प्रवेश द्वार पर बनायें हुए फैन स्प्रे सिस्टम गैलेरी के अन्दर से वाहन को निकालना होगा। उसके बाद ही किसान कृषि उपज का वाहन लेकर के सम्बन्धीत व्यापारी के पास माल विक्रय के लिए ले जा सकेगा। कृषि उपज मंडी मे माल विक्रय के लिए आने वाले किसान को बाजार में वाहन लेकर जाने की छुट नहीं होगी अत्यंत जरुरी कार्य होने से पैदल ही बाजार जाना होगा। इस तरह का पास व्यापारी व मजदूर वर्ग को भी जारी किया जायेगा। कृषि उपज मंडी प्रांगण में निर्धारित प्रोटोकॉल खास कर शोशल डिस्टेंसीग, सेनेटाइजीग के नियमों को फ्लौ नहीं करने वाले व्यापारी, मजदूर, किसान व सभी वर्गों के खिलाफ सख्त ऐक्शन लिया जायेगा। किसानों का माल लेकर आने का समय सुबह 6 बजे से 11बजे तक रहेगा। उसके बाद प्रवेश नहीं दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here