रश्म अदायगी बनी जलदाय विभाग की कार्यवाही, सफेदपोशों का दबाव या अधिकारियों की मिलीभगत। समाचार गढ़ ने पहले ही उठाए थे सवाल।

0

समाचार-गढ़ 24 सितम्बर 2020। जलदाय विभाग की राइजिंग लाइन में विभाग द्वारा कार्यवाही करते हुए पानी के अवैध कनेक्शन पकड़े थे। लेकिन जलदाय विभाग द्वारा पानी चोरों के खिलाफ की गई ये कार्यवाही केवल रश्म अदायगी तक ही सीमित होकर रह गई है। अभी तक इस मामले को लेकर जलदाय विभाग द्वारा कोई कानूनी कार्यवाही नही की गई है। कार्यवाही नही होने से पानी चोरों के हौसले बुलंद है तो वहीं राइजिंग लाइन में अवैध कनेक्शनों के चलते श्रीडूंगरगढ़ कस्बे के आडसर बास ओर बिग्गाबास के वार्ड 17,18 व 19 लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे है। ये लोग राइजिंग लाइन से अवैध कनेक्शनो को हटाकर उचित कार्यवाही की मांग कर रहे है ताकि पेयजल समस्या का निदान हो सके। गौरतलब है कि जिला कलेक्टर नमित मेहता के श्रीडूंगरगढ़ दौरे के दौरान कस्बे के आडसर बास व बिग्गाबास के लोगो ने कलक्टर से अवैध कनेक्शनों की शिकायत भी की थी। कलक्टर मेहता ने भी मामले की गंभीरता से लेते हुए कार्यवाही के निर्देश दिए थे। लेकिन लगता है कि जलदाय विभाग को जिलाधीश के आदेशों से कोई सरोकार नही है ओर न नही बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे लोगो की पीड़ा की परवाह है। जलदाय विभाग ने केवल खानापूर्ति के लिए पानी के छह अवैध कनेक्शन पकड़ कर मामले से इतिश्री कर ली है। अब जरूरत है कि जिस तरह से सूबे के मुखिया अशोक गहलोत पानी-बिजली को गंभीर है उसी तरह श्रीडूंगरगढ़ जलदाय विभाग अधिकारी भी कुंभकर्णी नींद से जागकर आमजन की पीड़ा को समझे और अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए पानी के अवैध कनेक्शन पकड़ कर उचित कानूनी कार्यवाही भी करे। हालांकि जलदाय विभाग की इस लीलापोति वाली कार्यशैली को लेकर समचारगढ़ न्यूज पोर्टल ने छह अवैध कनेक्शन पकड़ने वाली कार्यवाही के दिन ही बता दिया था कि “कहीं रश्म अदायगी न जाए ये कार्यवाही”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here