दुर्भाग्यवश अपने घर पहुंचने से वंचित रह गए बिहारी श्रमिक, 82 को किया रवाना

0

समाचारगढ़।  श्रीडूंगरगढ़ 20 मई (शुभकरण पारीक) बिहार राज्य से रोजगार के लिए यहां आकर उपखंड मुख्यालय सहित आसपास में रहने वाले श्रमिक लॉक डाउन के बाद से ही अपने अपने घरों को जाने के लिए सरकारी व्यवस्था का इंतजार कर रहे थे तथा बीकानेर का जिला प्रशासन भी उन्हें अपने गृह राज्य में भेजने की कवायद में जुटा हुआ था। इसी बीच मंगलवार को खबर आई कि बुधवार को बिहारी श्रमिकों को अपने गृह राज्य पहुंचाने के लिए बीकानेर से ट्रेन रवाना होगी। जिस पर उपखंड कार्यालय ने श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र के बिहारी श्रमिकों को भी इस ट्रेन में भिजवाने के प्रयास तेज कर दिए। एसडीएम राकेश कुमार न्यौल देर रात तक इस मसले पर विशेष रुप से जिला प्रशासन के साथ बातचीत कर श्रमिकों को बिहार भिजवाने की कवायद में जुटे रहे। आखिरकार जिला प्रशासन द्वारा बिहारी श्रमिकों को श्रीडूंगरगढ़ से बीकानेर लाने के लिए बसें भिजवाने का आश्वासन देने पर बुधवार को सुबह उपखंड कार्यालय द्वारा क्षेत्र के मोमासर, जालबसर तथा कृषि उपज मंडी में फंसे श्रमिकों को संदेश भेज कर निर्धारित समय तक उपखंड मुख्यालय पहुंचने के निर्देश दिए थे। परंतु श्रमिकों के पास उपखंड मुख्यालय पहुंचने के लिए संसाधन के अभाव के बावजूद वे पहुंच तो गए परंतु पहुंचने में देरी होने के कारण स्थानीय प्रशासन द्वारा मौके पर मौजूद मात्र 82 श्रमिकों को ही रोडवेज की बसों द्वारा बीकानेर भिजवा कर ट्रेन से रवाना किया गया।

उपखंड अधिकारी ने बताया कि संबंधित श्रमिकों को समय रहते यहां पहुंचने के लिए सूचित किया गया था परंतु उन्होंने दिशा निर्देशों की पालना नहीं की। अब अपने घर जाने से वंचित रहे शेष श्रमिकों को आगामी 28 मई को इसी ट्रेन के वापस आने की स्थिति में भेजा जाना संभव हो सकेगा।

परंतु सिस्टम की खामियों के वजह से करीब 50 श्रमिक जो पिछले 2 माह से लॉक डाउन के चलते मुसीबत का सामना कर रहे थे वे लोग अब और मुसीबत में फंस गए हैं। श्रमिकों ने बताया कि अब हम कहां जाएं हमारे पास ना तो रहने की जगह है और ना ही खाने-पीने का साधन l मोमासर कस्बे से आए 6 श्रमिकों ने बताया कि सरपंच के माध्यम से हमें सूचना मिलने पर हमने 15 सो रुपए में गाड़ी को किराए पर लेकर तत्काल यहां पहुंच गए परंतु अब प्रशासन हमारी कोई सुनवाई नहीं कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here