उड़ीसा और वेस्ट बंगाल से लौटे श्रमिकों ने जयपुर प्रशासन की लापरवाही के चलते  गुजारे सड़क पर 24 घंटे , डॉ माचरा की पहल पर प्रशासन ने ली सुध

0

समचारगढ़ । श्रीडूंगरगढ़   उड़ीसा और वेस्ट बंगाल से वहां की स्थानीय सरकारों द्वारा बसों के माध्यम से राजस्थान सीमा पर छुड़वाए गए श्रीडूंगरगढ़ अंचल के श्रमिकों जयपुर आमेर  प्रशासन की लापरवाही के कारण उन्हें 24 घंटे टोल प्लाजा पर गुजारने पड़े । सोमवार रात को 2 बजे जयपुर टोल प्लाजा पर पहुंचे श्रमिकों को श्रीडूंगरगढ़ वापसी के लिए श्रीडूंगरगढ़ अंचल के युवा लीडर डॉ विवेक माचरा प्रयासरत रहे। डॉ विवेक माचरा ने आमेर तहसील एसडीएम लक्ष्मी कटारा , जिला कलेक्टर बीकानेर कुमार पाल गौतम , अतिरिक्त जिला कलेक्टर बीकानेर  गौरी सहित उड़ीसा और वेस्ट बंगाल श्रमिकों के प्रभारी आईएएस रिया केजरीवाल को सूचित कर आपसी समन्वय के माध्यम से श्रीडूंगरगढ़ के रीडी , बाना, बींझासार सहित अन्य गांवों के श्रमिकों को श्रीडूंगरगढ़ पहुंचाया गया । डॉ विवेक माचरा ने रोष जताते हुए कहा कि अन्य राज्यों की सरकारें राजस्थान के श्रमिकों को राजस्थान की सीमा तक पहुंचा कर जा रही हैं , लेकिन राजस्थान सरकार उनको राजस्थान प्रवेश बाद के भी समुचित व्यवस्था नहीं करवा पा रहे हैं , इस दिशा में सरकार को महत्वपूर्ण कदम उठाने होंगे
क्षेत्रीय विधायक गिरधारीलाल महिया ने बताया कि अखिल भारतीय किसान सभा जयपुर के महामंत्री भगवान सहाय ने भी स्थानीय स्तर पर अधिकारियों से बातचीत करके श्रमिकों को सकुशल रवाना करने में सहायता की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here