श्रीडूंगरगढ़ क्षेत्र के भोजास गांव की रोही में मादा हिरण शिकार का मामला, हिरण का शव व बन्दूक बरामद, शिकारी फरार

0

श्रीडूंगरगढ़ (समाचार-गढ़) 2 अप्रैल 2020। श्रीडूंगरगढ़ उपखण्ड के गांव भोजास की रोही में एक शिकारी द्वारा गोली मारकर मादा हिरण का शिकार करने एवं पड़ोसी युवक द्वारा जान पर खेलकर शिकारी के साथ हाथापाई कर हिरण का शव एवं शिकार में प्रयुक्त की गई बन्दूक छीनकर पुलिस को सूचना देने का साहसिक मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार की शाम को करीब 7 बजे भोजास की रोही में अपने खेत में चने की फसल की कटाई का कार्य कर रहे युवक हीरू राम मेघवाल को पड़ोस के खेत में गोली चलने की आवाज सुनाई दी। आवाज सुनकर युवक ने शोर किया और आसपास के खेतों से लोगों को आवाज देते हुए गोली चलने दिशा में गया तो भोजास की रोही में स्थित लिछमा देवी राजपुरोहित के खेत में एक शिकारी को मृत हिरण को अपनी गोदी में उठाकर ले जाते देखा

उसने पीछा कर शिकारी को रोका तो शिकारी ने उस पर भी बंदूक तान दी और उसे मार देने की धमकी दी। इतनी देर में आसपास के लोग भी आने लगे तो शिकारी हिरण का शव छोड़कर मौके से भाग छूटा। इस पर युवक हीरूराम मेघवाल ने पीछा कर शिकारी को पकड़ लिया तथा हाथापाई करते हुए उससे बंदूक छीन ली। बन्दूक छीनने के बाद आरोपी मौके से भाग छूटा। सुबह होने पर ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। भोजास की रोही में शिकार करने वाले शिकारी की पहचान भी हो गई है। नागौर के तांतवास के निवासी पेमाराम बावरी को अभी दुलचासर की रोही में किसानों ने सामूहिक रूप से रोही में नीलगाय, हिरण इत्यादि भगाने का कार्य दे रखा है। आरोपी दुलचासर की रोही में ही रहता है तथा अपनी टोपीदार बंदूक से धमाके कर पशुओं को भगाते हुए फसल की सुरक्षा करता है। आरोपी रेलवे लाइन के सारे चलते-चलते भोजास की रोही ओर आया और वहां पर मादा हिरण का शिकार कर उसे ले जाने लगा तभी लोगों ने पकड़ लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here