राजस्थान में कोरोना का कहर लगातार जारी, 23 दिन में हुई 45 फीसदी मौतें, बढ़ते मामलों ने उड़ाई चिकित्सा विभाग की नींद

0
समाचारगढ़ 24 जून 2020, श्रीडूंगरगढ़। राजस्थान में जून माह में कोरोना भी भयावह तस्वीर निकल कर सामने आ रही है। अब इसे लॉकडाउन खुलने का साइड इफेक्ट कहे या फिर कोरोना का स्प्रेड, लेकिन सच्चाई ये है कि राजस्थान में मौतों का ग्राफ जून माह में 45 फीसदी तक बढ़ा है.पॉजिटिव मरीजों की संख्या में भी 42 फीसदी तक बढ़ोत्तरी हुई है राजस्थान में जून माह में कोरोना की तस्वीर पूरी तरह बदल कर रख दी है।
दो मार्च को सामने आया था कोरोना का पहला केस
प्रदेश में दो मार्च को कोरोना का पहला केस सामने आया था.इसके बाद से लेकर 31 मई तक कोरोना मरीजों की संख्या 8831 रहीं, लेकिन जून माह के 23 दिनों में ही यह आंकड़ा बढ़कर 15 हजार को पार कर गया है। चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने खुद इसकी स्वीकारोक्ति की है.हालांकि, उनका कहना है कि गहलोत सरकार कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर गंभीर है। कोरोना की रोकथाम के लिए गांव-ढाणियों से लेकर शहरों में जागरूकता अभियान शुरू किया गया है। इस अभियान से उम्मीद है कि काफी हद तक कोरोना के मामलों पर ब्रेक लगाया जा सकेगा।
प्रदेश में कोरोना से मौतों का बढ़ता ग्राफ !
-राजस्थान में कोरोना की जून माह बदली तस्वीर
-दो मार्च को आया था राजस्थान में कोरोना का पहला केस
-31 मई तक राजस्थान में हुई कुल 194 मौतें
-यानी 90 दिनों में रोजाना औसतन 2 लोगों की हो रही थी मौत
-लेकिन जून के 23 दिनों में ही हो गई 162 लोगों की मौत
-यानी जून माह में रोजाना 7 लोग गंवा रहे है अपनी जान
आपकी जागरुकता, आपकी सुरक्षा !
-राजस्थान में कोरोना की जून माह बदली तस्वीर
-प्रदेश में 31 मई तक कोरोना के 8831 पॉजिटिव केस
-यानी रोजाना 98 के आसपास सामने आए पॉजिटिव केस
-लेकिन जून माह के 23 दिनों में ही 6600 केस की बढ़ोत्तरी
-यानी रोजाना तीन गुना तक बढ़ रहा कोरोना पॉजिटिव का ग्राफ
केस का बढ़ना कम्यूनिटी स्प्रेड नहीं
राजस्थान के बढ़ते मामलों पर गौर करें तो कुछ जिलों में जून माह में ही सर्वाधिक केस आए है।इन जिलों में भरतपुर और धौलपुर का नाम टॉप पर हैं।हालांकि, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा का कहना है कि केस का बढ़ना कम्यूनिटी स्प्रेड नहीं है। भरतपुर में सुपर स्प्रेडर से केस बढ़ रहे है.धौलपुर में ही कुछ ऐसी ही रिपोर्ट सामने आ रही है, जहां बाहर से आए लोगों के चलते कोरोना के केस एकाएक बढ़ रहे है।
बढ़ते मामलों ने उड़ाई चिकित्सा विभाग की नींद
कोरोना के जून माह के बढ़ते मामलों ने पूरे चिकित्सा विभाग की नींद उड़ा रखी है.हालांकि, राहत की बात ये है कि इस दरमियान जिस गति से केस बढ़ रहे है, उसी गति से मरीजों के ठीक होने का सिलसिला भी जारी है.यहीं वजह है कि अभी तक कोरोना के बढ़ते मामलों के बावजूद एक्टिव केस तीन हजार के आसपास ही चल रहे है.ऐसे में उम्मीद ये है कि प्रदेशभर में कोरोना के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए चलाया जा रहा अभियान के अच्छे परिणाम निकलेंगे.क्योंकि यदि अभियान के जरिए लोगों को जागरूक करने में सरकारी तंत्र कामयाब रहा तो निश्चिततौर पर कोरोना के बढ़ते मामलों को कंट्रोल किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here