Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
HomeFrontकाली घटाओं ने जमकर बरसाया पानी अगेती फसलों को नुकसान की आशंका...

काली घटाओं ने जमकर बरसाया पानी अगेती फसलों को नुकसान की आशंका निचले इलाकों में भरा पानी

Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD

समाचार गढ़, श्रीडूंगरगढ़। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार श्री डूंगरगढ़ सहित क्षेत्र के कई गांवों में मंगलवार देर रात से शुरू हुआ बारिश का दौर बुधवार पूरे दिन रुक रुक जारी रहा । कभी तेज तो कभी मंद गति से हो रही बारिश से जनजीवन पूरी तरह प्रभावित नजर आया। बारिश से निचले इलाके पानी से तरबतर हो गए। बुधवार शाम को आई तेज बरसात ने तहसील के सातलेरा को पानी पानी कर दिया। श्रीडूंगरगढ़ के मुख्य बाजार में पानी भरने से आवागमन पूरी तरह ठप नजर आया। कई दुकानों में पानी घुसने की सूचना भी आ रही है। श्री डूंगरगढ़ सहित बिग्गा, सातलेरा, कितासर, कुंतासर, रिडी, सहित कई गांवों में बुधवार को पूरे दिनभर बारिश का दौर जारी रहा जिसके कारण आम जनजीवन प्रभावित नजर आया। पिछले कई दिनों से लगातार हो रही बरसात से अब फसलों को नुकसान की आशंका किसानों ने जताई है। किसानों का कहना है कि ज्यादा बरसात से अगेती फसलों को नुकसान की पूरी आशंका हो गई है सबसे ज्यादा मोठ की फसल को नुकसान की आशंका किसानों को सता रही है। क्योंकि अगेती मोठ की फसल अब पूरी फाल पर आ चुकी है।तथा मोठ की फसल पर फूल भी पूरे परवान पर है ऐसे में अगर बारिश का दौर ओर जारी रहा तो फसलों को नुकसान तय है। कई दिनों से फसलों को पूरी धूप नहीं मिलने से फसलों में कीट भी काफी संख्या में पनप रहे हैं तथा फसलें पीली पड़नी शुरू हो गई। सातलेरा गांव के बुजुर्ग किसान सीताराम तावनिया ने बताया कि उम्र के सत्तर सालो में ऐसी बरसात पहले कभी भी नहीं देखी जो पिछले दो महीनों से लगातार हो रही है। तावनिया ने बताया कि इस तरह हो रही बरसात से फसलों को पूरा नुकसान होना तय है।

धूप नहीं निकलने से फसलों में बढ़तवार हो रहा प्रभावित। जड़ गलन की आशंका हुई उत्पन्न । सभी फोटो गौरी शंकर सारस्वत सातलेरा
ज्यादा बरसात से मोठ की अगेती फसल को नुकसान की पूरी आशंका ।
ज्यादा बरसात से फसलें पीली पड़नी हुई शुरू ।
आसमान में उमड़ घुमड़ कर आई काली घटाओं ने सातलेरा गांव को कुछ ही देर में पानी पानी कर डाला ।
Samachargarh AD
RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
विज्ञापन