Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Home Blog

बेस्ट पत्रकारों की लिस्ट में राजू हिरावत का भास्कर ने किया सम्मान

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। देश के प्रतिष्ठित अखबारों में शुमार रखने वाले दैनिक भास्कर ने राजस्थान से अपने बेस्ट संवाददाताओं का जयपुर में आयोजित एक कार्यक्रम में विशेष सम्मान किया। जयपुर के पंचतारा होटल द ललित में दैनिक भास्कर ग्रुप के मालिक और निदेशक पवन अग्रवाल ने एक रंगारंग कार्यक्रम में राजू हिरावत का बेस्ट संवाददाताओं में चयन करते हुए सम्मान किया। इसके साथ ही एक डिनर भी इनके सम्मान में रखा गया। इसी क्रम में बीकानेर शाखा द्वारा भी गुरुवार को आयोजित एक कार्यक्रम में राजू हिरावत का सम्मान किया गया। राजू हिरावत पत्रकारिता के माध्यम से जनहित के मुद्दों पर बेबाक लिखने के लिए जाने जाते हैं। साथ ही आमजन से जुड़ी खबरों को हमेशा प्रमुखता देते हैं। समाचार गढ़ न्यूज़ पोर्टल इन्हें शुभकामनाएं देता है।

दैनिक भास्कर ग्रुप के मालिक और डायरेक्टर पवन अग्रवाल ने किया सम्मानित

दिनांक 7 अक्टूबर 2022 के पंचांग के साथ जानें कई खास बातें

दिनांक 07 – 10 -2022 के पंचांग के साथ जाने और भी कई खास बातें आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ
श्री गणेशाय नम:

तिथि वारं च नक्षत्रं
योगो करणमेव च ।
पंचागं श्रृणुते नित्यं
श्रीगंगा स्नानं फलं लभेत् ।।
शास्त्रों के अनुसार नित्य पंचांग के तिथि, वार, नक्षत्र ,योग ,करण आदि पांच अंगों को सुनने से गंगा स्नान के बराबर फल मिलता है अतः नित्य पंचांग अवश्य सुनना चाहिए।।

      आज का पंचांग

दिनांक- 07 / 10 /2022
श्री डूंगरगढ़
अक्षांश – 28:06
रेखांश – 74:04
पंचांग
विक्रम संवत् – 2079
शक संवत् – 1944
* ऋतु – शरद
* अयन- दक्षिणायण
* मास – आश्विन
* पक्ष- शुक्ल
* तिथि- द्वादशी प्रातः 07:22 उपरांत त्रयोदशी
* वार- शुक्रवार
* नक्षत्र – शतभिषा सांय 18:12 उपरांत पूर्वाभाद्रपद
* योग- गण्ड रात्रि 22:37:13 उपरांत वृद्धि
* करण- 1.बालव- प्रातः07:22तक 2.कौलव – सायं 06:21 तक 3. तैतिल

  • चंद्र राशि – कुंभ
    *चंद्र बल – मेष, वृषभ, मिथुन, सिंह, कन्या, तुला, धनु, मकर, कुंभ
    सम्वत् नाम – शुभकृत
    सूर्योदय – 06:32A.M. सूर्यास्त – 06:11 P.M.
    दिनमान – 11:39
    रात्रिमान – 12:21 शुभ समय अभिजित मुहूर्त मध्याह्न -11:57:30बजे से 12:45:30 तक अशुभ समय
    यमगण्ड – सायं 03:00 से 04:30 तक राहुकाल- प्रातः प्रातः 10:30 से 12:00 बजे तक

(विशेष- राहुकाल चक्र भारत के दक्षिण संभाग में ही मान्य है दक्षिण संभाग के लोगों को शुभ कार्यो में राहु काल के समय का त्याग करना चाहिए किंतु उत्तर भारत में राहुकाल का समय शुभ कार्यों में त्यागने की आवश्यकता नहीं है । ) *
कालवेला या अर्द्धयाम 1.प्रात:10:55:07 बजे से 12:22:30 तक
2.रात्रि 09:15:15 बजे से 10:47:52 तक
गुलिक काल – प्रातः 7:30 बजे से 09:00 बजे तक
दिशा शूल – पश्चिम दिशा

चौघड़िया ( दिन)
1.चंचल -प्रातः 06:32:00से 08:00:22 तक
2.लाभ-प्रातः 08:00:22 से 09:27:45 तक
3.अमृत-प्रातः 09:27:45 से 10:55:07 तक (वारवेला निषेध)
4.काल-प्रातः10:55:07 से 12:22:30 तक(काल वेला निषेध )
5.शुभ-दोपहर 12:22:30 से 01:49:52 तक
6.रोग-दोपहर 01:49:52 से 03:16:15 तक
7.उद्वेग-सायं 03:16:15 से 04:43:37 तक
8.चंचल-सायं 04:43:37 से 06:11तक

चौघड़िया ( रात्रि)

  1. रोग- रात्रि 06:11:00बजे 07:43:37 से तक
  2. काल-रात्रि 07:43:37बजे 09:15:15 से तक
  3. लाभ-रात्रि 09:15:15 बजे से 10:47:52 तक
  4. उद्वेग-रात्रि 10:47:52 बजे से 12:20:30 तक
  5. शुभ-रात्रि 12:20:30 बजे से 01:53:07 तक
  6. अमृत-रात्रि 01:53:07 बजे से 03:25:45 तक
  7. चंचल-रात्रि 03:25:45 बजे 04:58:22 से तक
  8. रोग-रात्रि 04:58:22 बजे से 06:31 तक

विशेष पर्व
प्रदोष व्रत

राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय ( शास्त्री-आचार्य ,ज्योतिष विद्, बी.ए.)
भू.पू. सहायक आचार्य
श्री ऋषिकुल संस्कृत विद्यालय
श्री डूंगरगढ़
*M.N. 9829660721

श्रीडूंगरगढ़ पहुंचे पूर्व मंत्री देवीसिंह भाटी, वर्तमान देहात जिलाध्यक्ष व पदाधिकारियों की रही अनुपस्थिति

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्षा एवं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का 9 अक्टूबर को बीकानेर दौरा है। इस दौरे से पहले राजनैतिक हलचल तेज हो गई है। राजे के बीकानेर पहुंचने पर जूनागढ़ के सामने कार्यक्रम आयोजित होगा। जिसमें बड़ी संख्या में भाजपा के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता शामिल होंगे। इस कार्यक्रम में पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी को पुनः भाजपा में शामिल किया जाना भी प्रस्तावित है। कार्यक्रम में शामिल होने का न्यौता लेकर गुरुवार को भाटी श्रीडूंगरगढ़ पहुंचे। यहां सिद्ध धर्मशाला में भाजपा के कार्यकर्ताओं से मिले। पूर्व पालिकाध्यक्ष शिवकुमार स्वामी एवं पूर्व जिला परिषद सदस्य हेमनाथ जाखड़ की अगुवाई में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता पूर्व सरपंच हनुमानमल व्यास ने की।

यह रहे उपस्थित- इस दौरान भाजयुमो के पूर्व जिलाध्यक्ष भागीरथ मूंड, पूर्व सरपंच कालू नाथ सिद्ध, नगरपालिका उपाध्यक्ष बंशीधर सुथार,पार्षद अरुण पारीक, जगदीश गुर्जर, राम सिंह जागीरदार, पंचायत समिति सदस्य भींयानाथ सिद्ध, सरपंच मोहन स्वामी, पूर्व पार्षद रोशन अली, भाजपा नेता एवं कार्यकर्ता तोलाराम जाखड़, ओम राणावत, प्रेम सिंह पंवार, धन्नेसिंह, बजरंग सिंह, मोहन सिंह देवड़ा, लक्ष्मण सिंह, मदन मेघवाल, गोविंद पारीक, भाजयुमो शहर मंडल अध्यक्ष महेंद्र सिंह, विशाल सिंह, पूर्व सरपंच ओमप्रकाश नाई, जेठाराम भांभू, पूर्व जिला परिषद सदस्य सुभाष कमलिया, नंदू सिंह राजपुरोहित, मांगीलाल सिंह राजपुरोहित, पदमनाथ बलिहारा, पूर्व सरपंच ओमनाथ सिद्ध, सरपंच गिरधारी सिंह राजपुरोहित, श्रवण सारस्वत बापेऊ, श्रवण नाई मोमासर, महेश शर्मा, रणजीत सिंह, पुरखाराम धतरवाल, पोकर नाथ सिद्ध, जगदीश भादू, शिव नाई, इंद्र जाजू, लेखराम खाती, गोविंद पारीक सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे।

इनकी अनुपस्थिति रही कस्बे में चर्चा का विषय- पूर्व मंत्री देवी सिंह भाटी के श्री डूंगरगढ़ पहुंचने और सिद्ध धर्मशाला में कार्यक्रम के बाद पूरे कस्बे में पार्टी के वर्तमान देहात जिलाध्यक्ष एवं पदाधिकारियों के शामिल नहीं होने से चर्चा का विषय बन गया और कई प्रकार के कयास निकालने लगे।

बिग्गाजी महाराज के धड़ देवली धाम पर श्रद्धालु पहुंचने शुरू, रोशनी से जगमगा उठा मंदिर परिसर

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। आसोज़ माह की शुक्ल पक्ष की द्वादशी एवं त्रयोदशी को लगने वाले शोर्य पीठ गौ रक्षक श्री वीर बिग्गाजी महाराज के धड़ देवली धाम पर श्रद्धालु पहुंचने शुरू हो गए हैं। मेले के पावन अवसर पर पूरे मंदिर परिसर को विशेष रोशनी की सजावट कर सजाया गया है। पूरा मंदिर परिसर रंग बिरंगी रोशनी से जगमगाता हुआ नजर आ रहा है। दो दिवसीय मेले में व्यवस्था बनाए रखने के लिए श्री वीर बिग्गाजी सेवा दल के कार्यकर्ताओं के साथ वीर बिग्गाजी सेवा वाहिनी सहित वीर बिग्गाजी मेला कमेटी के सदस्य मुस्तैदी के साथ लगे हुए है। मेले में अस्थाई दुकानें सजनी शुरू हो गई है। श्री वीर बिग्गाजी महाराज के श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्थित दर्शनार्थ हेतु बैरिकेटिंग की गई है ताकि श्रद्धालु कतार बद्ध होकर धोक लगा सके । श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए मंदिर परिसर में बनी धर्मशाला के कमरे खोल दिए गए। शुक्रवार को रात्रि विशाल जागरण होगा जिसमें कई कलाकारों द्वारा श्री वीर बिग्गाजी महाराज की कथा एवं भजनों से भक्ति रस की धारा बहाई जाएगी । इसी दिन श्रद्धालुओं के लिए भंडारे का आयोजन भी किया जायेगा ।इस दो दिवसीय मेले में देश के कोने कोने से श्री वीर बिग्गाजी महाराज के भक्त धोक लगाने के लिए पहुंचते हैं। सैकड़ों की संख्या में पैदल यात्री संघ भी धोक लगाने के लिए पहुंचेंगे । मेले को देखते हुए श्री डूंगरगढ़ प्रशासन भी अलर्ट है।
इसी प्रकार गौ रक्षक श्री वीर बिग्गाजी महाराज के शीश देवली धाम रीडी में दो दिवसीय मेला कल से शुरू होगा । दोनों ही जगह पर वीर बिग्गाजी महाराज के हजारों की संख्या में श्रद्धालु धोक लगाने के लिए पहुंचते हैं । कोई पैदल तो कोई दंडवत तो कोई वाहनों के जरिए श्री वीर बिग्गाजी महाराज के भक्त यहां धोक लगाने के लिए पहुंचते हैं । दो दिवसीय विशाल मेले की तैयारियां पूरी हो चुकी है।

दो दिवसीय मेले के अवसर पर रोशनी से जगमगाता गौ रक्षक श्री वीर बिग्गाजी महाराज का सौर्य पीठ धड़ देवली धाम धोक लगाने के लिए पहुंचने लगे श्रद्धालु । फोटो गौरी शंकर तावनिया सातलेरा

गायक मोहम्मद रमजान को मिलेगा श्री जसवंतमल राठी स्मृति संगीत भूषण सम्मान

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। गुणीजन सम्मान समारोह समिति के अध्यक्ष लाॅयन महावीर माली ने गुरुवार को घोषणा करते हुए बताया कि इस वर्ष का श्री जसवंत मल राठी स्मृति संगीत भूषण सम्मान राजस्थान के नामचीन गायक श्रीमोहम्मद रमजान को भव्य समारोह पूर्वक प्रदान किया जाएगा।
समिति के सदस्य विजय महर्षि ने बताया कि इस सम्मान के अन्तर्गत गुणीजन सम्मान समारोह समिति की ओर से इक्कीस हजार रुपये की राशि, शाॅल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह प्रदान किए जाऐंगे, वहीं उनकी कला के कद्रदान भी उनका सम्मान करेंगे।
उल्लेखनीय है कि रमजान अपनी मधुर गायकी से विगत पच्चीस वर्षों से संगीत की सेवा कर रहे हैं। उनके कार्यक्रम देश-प्रदेश सभी जगहों पर हुए हैं। वे सारेगामा संगीत प्रतियोगिता में रनर रहे हैं। उनके अपने गाए हुए कई एलबम लोकप्रिय हुए हैं। समिति के सदस्य बजरंग शर्मा ने बताया कि यह सम्मान साहित्य कला प्रेमी श्री गौरीशंकर राठी परिवार की ओर से प्रति वर्ष संगीत कला से जुड़े प्रतिभावान कलाकार को प्रदान किया जाता है, पूर्व में यह सम्मान प्रसिद्ध गीतकार-संगीतकार श्री सागर भाटी तथा गायक भंवरजी स्वामी को प्रदान किया जा चुका है। समिति के संयोजक डाॅ चेतन स्वामी ने बताया कि मोहम्मद रमजान का समूचा परिवार संगीत की सेवा में जुटा हुआ है। उन्हें पूर्व में अनेक संस्थाओं द्वारा सम्मानित किया जा चुका है।

बालाजी के जयकारों के साथ सालासर के लिए संघ हुआ रवाना

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। श्रीडूंगरगढ़ के ग्राम सत्तासर से बालाजी महाराज के जयकारों के साथ सालासर पैदल यात्री संघ पाबूजी भक्त मंडली सत्तासर आज गुरुवार सुबह बालाजी महाराज के मंदिर से पाबूजी महाराज के मंदिर में जोत के दर्शन करके जयकारों के साथ संघ रवाना हुआ।
पंडित दिनेश सिंडोलिया ने बताया कि सुबह 7 बजे बड़े धूमधाम से श्री पाबूजी भक्त मंडली संघ सत्तासर बालाजी महाराज के जयकारों के साथ सालासर के लिए रवाना हुआ जिसमें युवा कार्यकर्ता समाजसेवी भाजपा नेता विक्रम सिंह सत्तासर, राजू शर्मा, जयकिशन शर्मा, धर्मपाल सहारण, परमेश्वर ,नानूराम सुथार, हंसराज सहू, एवं समस्त भक्तगण बालाजी के जयकारों के साथ पैदल रवाना हुए हैं।
ग्रामवासी कांकड़ तक संघ के साथ गए। जिसमें बड़े बुजुर्ग मघाराम सारण, मंनाराम शर्मा, मोटाराम सहू, भंवर सिंह पवार, केसरा राम सहू, हीराराम मेघवाल, नोरंग लाल शर्मा, मनोहर सिंह पवार , माधाराम शर्मा, आदुराम सारण मौजूद रहे।

दुर्गंध श्रीडूंगरगढ़ शहर के माथे पर लिखी हुई है, क्योंकि… साहित्यकार व पत्रकार डॉ. चेतन स्वामी का विश्लेषण

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। कल यानी 5 अक्टूबर को राजस्थान पत्रिका में एक समाचार प्रकाशित हुआ था कि राजस्थान के 97 शहरों में नहीं बिछेगी सीवर लाइन। इन 97 शहरों की सूची में श्रीडूंगरगढ़ भी है। यहां अशुद्ध मुद्रण के कारण श्रीडूंगरगढ़ की जगह श्रीडूंगरपुर छप गया है।
एक तरफ श्रीडूंगरगढ़ सीवर और ड्रेनेज लाइन के लिए प्रयासरत है, दूसरी तरफ यह समाचार प्रकाशित हुआ है।
कल जीव जतन जन कल्याण ट्रस्ट की ओर से निर्मित नगरपालिका भवन के उद्घाटन अवसर पर कार्यक्रम के प्रारंभ होते ही पूर्व विधायक श्री मंगलाराम गोदारा ने आपदा प्रबंधन मंत्री के समक्ष एकमात्र यही मांग रखी कि श्रीडूंगरगढ़ को ड्रेनेज योजना की सौगात अगर आप अपने आपदा प्रबंधन मंत्रालय से स्वीकृत करवा सकते हैं तो इस शहर का बड़ा भला हो सकता है। यही मांग वर्तमान विधायक श्री गिरधारीलाल महिया ने भी दोहराई, जिस पर मंत्री श्री गोविन्द राम मेघवाल ने कहा कि वे अपने अधिकारियों से इस सम्बन्ध में मंत्रणा करेंगे कि श्रीडूंगरगढ़ में वर्षा के दिनों में जल भराव की समस्या पेश आती है, वह अगर आपदा की परिभाषा के अंतर्गत आती है तो वे इसके लिए दो करोड़ तक का बजट दे पाएंगे।
दरअसल, हमारे निकट सरदारशहर, फतेहपुर आदि शहरों में अगले पचास वर्षों तक के लिए पर्याप्त ड्रेनेज और सीवेज योजना बनकर तैयार है पर श्रीडूंगरगढ़ वर्षों से ताल मैदान, कच्चे और पक्के जोहड़ में जल भराव तथा ड्रेनेज लाइनों में सीवेज लाइने जोड़े जाने के कारण अक्सर ही पक्के जोहड़ से उठनेवाली मारक गंध से आहत रहता है। उस पर राज्य सरकार द्वारा श्रीडूंगरगढ़ को जल मल निस्तारण योजना से बाहर कर इसके साथ कुठाराघात से कम नहीं किया है।
पत्रिका के समाचार में लिखा है कि इन 97 शहरों की मल निस्तारण योजना के लिए घरों के बाहर कुइयां खोद कर उसमें स्लज (मानव मल से बने कीचड़) को पांच से छह साल के भीतर खाली कर वाहनों के माध्यम से ट्रीटमेंट प्लांट तक पहुंचाया जाएगा। ( अभी वर्तमान में हर घरवाले यही तो कर रहे हैं, ट्रीटमेंट प्लांट नहीं है, इसलिए टैंकरवाले इस मानव मल को बीड़ में फैंक कर आते हैं। )
इन 97 शहरों में स्लज को ट्रीटमेंट प्लांट तक इसलिए नहीं पहुंचाया जा सकता, क्योंकि इसके लिए प्रति दिन प्रति व्यक्ति 135 लीटर जल चाहिए।
तो लब्बोलुआब यह है कि हमारी ड्रेनेज योजना टांय टांय फिस्स और इसके लिए पहले यहां पेयजल के रूप में हर घर में नहरी जल चाहिए।

साहित्यकार व पत्रकार डॉ. चेतन स्वामी

दिनांक 6 अक्टूबर 2022 के पंचांग के साथ जानें खास बातें आचार्य राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ

दिनांक 06 -10 -2022 के पंचांग के साथ जाने और भी कई खास बातें आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ
श्री गणेशाय नम:

तिथि वारं च नक्षत्रं
योगो करणमेव च ।
पंचागं श्रृणुते नित्यं
श्रीगंगा स्नानं फलं लभेत् ।।
शास्त्रों के अनुसार नित्य पंचांग के तिथि, वार, नक्षत्र ,योग ,करण आदि पांच अंगों को सुनने से गंगा स्नान के बराबर फल मिलता है अतः नित्य पंचांग अवश्य सुनना चाहिए।। *आज का पंचांग*

दिनांक- 06/10 /2022
श्री डूंगरगढ़
अक्षांश – 28:06
रेखांश – 74:04
पंचांग
विक्रम संवत् – 2079
शक संवत् – 1944
* ऋतु – शरद
* अयन- दक्षिणायण
* मास – आश्विन
* पक्ष- शुक्ल
* तिथि-एकादशी 09:36 A.M.
* वार- गुरुवार
* नक्षत्र – धनिष्ठा 19:37 P.M.
* योग-शूल 26:11:12 P.M.
* करण- 1.विष्टि (भद्रा ) प्रातः 09:32 उपरांत 2. बव
* चंद्र राशि – मकर प्रातः 08:23 उपरांत कुंभ
*चंद्र बल – मेष, वृषभ, सिंह, कन्या, धनु, मकर एवं प्रातः 08:23 उपरांत मिथुन, तुला, कुंभ ।

सम्वत् नाम – शुभकृत
सूर्योदय – 06:32 A.M. सूर्यास्त -06:12 P.M.
दिनमान – 11:40
रात्रिमान – 12:20 *शुभ समय* अभिजित मुहूर्त मध्याह्न-11:58 बजे से12:46 तक

अशुभ समय
यमगण्ड – प्रातः 06:00 बजे से 7:30 तक राहुकाल- दोपहर-1:30 बजे से 3:00 बजे तक

*(विशेष- राहुकाल चक्र भारत के दक्षिण संभाग में ही मान्य है दक्षिण संभाग के लोगों को शुभ कार्यो में राहु काल के समय का त्याग करना चाहिए किंतु उत्तर भारत में राहुकाल का समय शुभ कार्यों में त्यागने की आवश्यकता नहीं है । ) **
कालवेला या अर्द्धयाम

  1. सायं 03:17 बजे से 04:44:30 बजे तक 2. रात्रि 12:22:00 बजे से 01:54:30 तक
    गुलिक काल – प्रातः 09:00 बजे से 10:30 बजे तक
    दिशा शूल – दक्षिण दिशा में यात्रा वर्जित है
    चौघड़िया ( दिन)
    1.शुभ- प्रातः06:32 बजे से 07:59:30 तक
    2.रोग-प्रातः 07:59:30बजे से 09:27:00 तक
    3.उद्वेग-प्रातः 09:27:00बजे से 10:54:30 तक
    4.चंचल-प्रात:10:54:30 बजे से 12:22:00 तक
    5.लाभ- दोपहर 12:22:00 बजे से 01:49:30 तक
    6.अमृत-दोपहर 01:49:30 बजे से 03:17: 00 तक
    7.काल-सायं 03:17: 00 बजे से 04:44:30 तक (काल वेला निषेध )
    8.शुभ- सायं 04:44:30 बजे से 06:12:00 तक ( वारवेला निषेध )

चौघड़िया ( रात्रि)
1.अमृत- रात्रि 06:12 बजे से 07:44:30 तक
2.चंचल-रात्रि 07:44:30 बजे से 09:17:00 तक
3.रोग-रात्रि 09:17:00 बजे से 10:49:30 तक
4.काल-रात्रि 10:49:30 बजे से 12:22:00 तक (काल वेला निषेध )
5.लाभ-रात्रि 12:22:00 बजे से 01:54:30 तक
6.उद्वेग-रात्रि 01:54:30 बजे से 03:27: 00 तक
7.शुभ-रात्रि 03:27: 00 बजे से 04:59:00 तक
8.अमृत-रात्रि 04:59:00 बजे से 06:32: 00 तक

विशेष पर्व
पापाकुंशा एकादशी व्रत

राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय ( शास्त्री-आचार्य ,ज्योतिष विद्, बी.ए.)
भू.पू. सहायक आचार्य
श्री ऋषिकुल संस्कृत विद्यालय
श्री डूंगरगढ़
M.N. 9829660721

मंत्री गोविन्द मेघवाल ने किया पालिका भवन व नगर द्वार का उद्घाटन, ये रहा चर्चा का विषय

समाचार-गढ़, श्रीडूंगरगढ़। जीव जतन जन कल्याण ट्रस्ट की ओर से निर्मित स्व. जीवराज जी पारख स्मृति पालिका भवन का उद्घाटन आपदा प्रबंध मंत्री गोविन्द मेघवाल ने किया, इससे पूर्व उन्होंने इसी ट्रस्ट की ओर से निर्मित शिव नगरद्वार का भी उद्घाटन किया।
पालिका के समक्ष आयोजित उद्घाटन समारोह में बोलते हुए मंत्री गोविन्द मेघवाल ने कहा कि भामाशाह जतनजी पारख ने पचास लाख रुपये की राशि से इस सुन्दर पालिका भवन का निर्माण करवाया है। इसी परिवार द्वारा राजकीय कन्या महाविद्यालय का भी निर्माण करवाया जा रहा है। पारख परिवार की इस सामाजिक भूमिका की जितनी प्रशंसा की जाये उतनी कम है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में काम किया जाना बहुत आवश्यक है, क्योंकि सारी प्रगति शिक्षा पर अवलंबित है। शिक्षा शेरनी का दूध है, इसे जो पीएगा दहाड़ेगा। स्त्री शिक्षा के क्षेत्र में जो लोग अपना योगदान दे रहे हैं, वे विशेष प्रशंसा के पात्र हैं।
मंत्रीजी ने कहा कि वर्षा के दिनों में श्रीडूंगरगढ़ शहर के निचले क्षेत्र को जल भराव की समस्या से जूझना पड़ता है। अगर यह समस्या आपदा की परिभाषा में आती है तो मैं अपने विभाग से समीक्षा करवाकर इस कार्य को करवाने का यत्न करूंगा।
प्रारंभ में पूर्व विधायक मंगलाराम गोदारा ने मंत्री जी से निवेदन किया कि श्रीडूंगरगढ़ के जल भराव की समस्या का समाधान करावें। उन्होंने पारख परिवार के सामाजिक योगदान की भूरि भूरि प्रशंसा की।
स्थानीय विधायक गिरधारीलाल महिया ने कहा कि जतनजी पारख का अपनी धरती के प्रति अत्यधिक प्रेम और उदार भाव है। उन्होंने मंत्री जी से कहा कि श्रीडूंगरगढ़ की जल निकासी की योजना में उनका सहयोग करे।
मंत्री गोविन्द मेघवाल ने भामाशाह जतन पारख की माताजी राजूदेवी पारख को शाॅल ओढाकर उनका सम्मान किया।
भामाशाह जतन पारख ने बहुत भावुक होकर कहा कि वे अपने कार्यों से जन्म भूमि का ऋण चुकाने की चेष्टा करते हैं। वे सोचते हैं कि यहां कुछ न कुछ कार्य चलते रहना चाहिए और स्थानीय लोगों को भी अपनी जन्म भूमि के प्रति कुछ न कुछ अच्छे कार्य करते रहना चाहिए। पैसा होता तो बहुत लोगों के पास है, पर लगाना भगवान के आशीर्वाद से ही संभव होता है।
एस डी एम डाॅ दिव्या चौधरी, तुलसीराम चौरड़िया तथा भीखमचंद पुगलिया ने भी अपने विचार व्यक्त किये। साहित्यकार श्याम महर्षि ने कहा कि जतन पारख वे व्यक्ति हैं जो जिस कार्य की कह देते हैं, उसे हर हाल में पूरा करते हैं।
कार्यक्रम में पूर्व विधायक किशनाराम नाई भी आए, सीओ दिनेश कुमार, सीआई अशोक विश्नाई, पालिका अधिशासी अधिकारी भवानी शंकर व्यास सहित नगर के सभी गणमान्य लोगों की उपस्थिति रही। पालिका चेअरमैन मानमल शर्मा का पालिका के कार्यक्रम में न आना खासा चर्चा का विषय रहा।
प्रारंभ में आचार्य श्री महाश्रमण जी की शिष्या साध्वी चरितार्थ प्रभाजी ने पालिका के नव निर्मित भवन में पगलिया कर मंगल पाठ सुनाया।
जीव जतन जन कल्याण ट्रस्ट की ओर आनंद पारख ने आभार ज्ञापित किया। मंच संचालन पत्रकार कपिला स्वामी ने किया।

दिनांक 5 अक्टूबर के पंचांग के साथ जानें और भी कई खास बातें आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ

दिनांक 05 -10 -2022 के पंचांग के साथ जाने और भी कई खास बातें आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ
श्री गणेशाय नम:

तिथि वारं च नक्षत्रं
योगो करणमेव च ।
पंचागं श्रृणुते नित्यं
श्रीगंगा स्नानं फलं लभेत् ।।
शास्त्रों के अनुसार नित्य पंचांग के तिथि, वार, नक्षत्र ,योग ,करण आदि पांच अंगों को सुनने से गंगा स्नान के बराबर फल मिलता है अतः नित्य पंचांग अवश्य सुनना चाहिए।। *आज का पंचांग*

दिनांक- 05/10/2022
श्री डूंगरगढ़
अक्षांश – 28:06
रेखांश – 74:04
पंचांग
विक्रम संवत् – 2079
शक संवत् – 1944
* ऋतु – शरद
* अयन- दक्षिणायण
* मास – आश्विन
* पक्ष- शुक्ल
* तिथि- दशमी 11:56
* वार- बुधवार
* नक्षत्र – श्रवण 21:10
* योग- सुकर्मा 08:15 उपरांत धृति
* करण- गर प्रातः11:56:12 उपरांत वणिज
* चंद्र राशि – मकर
*चंद्र बल – मेष, वृषभ, कर्क, सिंह, कन्या, वृश्चिक, धनु, मकर, मीन
सम्वत् नाम – शुभकृत
सूर्योदय – 06:31 A.M सूर्यास्त – 06:13 P.M.
दिनमान – 11:42
रात्रिमान – 12:18 *शुभ समय* बुधवार को अभिजित मुहूर्त नहींं

अशुभ समय
यमगण्ड – प्रातः07:30 बजे से 09:00 तक राहुकाल- मध्याह्न 12:00 से 01:30 बजे तक

*(विशेष- राहुकाल चक्र भारत के दक्षिण संभाग में ही मान्य है दक्षिण संभाग के लोगों को शुभ कार्यो में राहु काल के समय का त्याग करना चाहिए किंतु उत्तर भारत में राहुकाल का समय शुभ कार्यों में त्यागने की आवश्यकता नहीं है । ) **

कालवेला या अर्द्धयाम 1.प्रात:09:26:30 से 10:54:15 बजे तक 2.रात्रि 03:26:30 बजे से 04:58:45 बजे तक
गुलिक काल – प्रातः10:30 से 12:00 बजे तक
दिशा शूल – उत्तर दिशा विशेष वर्जित एवं यथासंभव सभी दिशाओं की यात्रा टालें

चौघड़िया ( दिन)
1.लाभ- प्रातः 06:31बजे से 07: 58:45 तक
2.अमृत – प्रातः07:58:45 बजे से 09:26:30 तक
3.काल-प्रातः 09:26:30बजे से 10:54:15 तक(काल वेला निषेध)
4.शुभ-प्रातः 10:54:15 बजे से 12:22:00 तक
5.रोग-दोपहर 12:22:00 बजे से 01:49:45 तक (वारवेला निषेध)
6.उद्वेग – दोपहर 01:49:45 बजे से 03:17:30 तक
7.चंचल-सांय 03:17:30 बजे से 04:45:15 तक
8.लाभ- सायं 04:45:15 बजे से 06:13 तक

चौघड़िया ( रात्रि)
1.उद्वेग- रात्रि 06:13बजे से 07:45:15 तक
2.शुभ- रात्रि 07:45:15 बजे से 09:17:30 तक
3.अमृत- रात्रि 09:17:30 बजे से 10:49:45 तक

  1. चंचल- रात्रि 10:49:45 बजे से 12:22:00 तक
    5.रोग- रात्रि 12:22:00 बजे से 01:54:15 तक
    6.काल- रात्रि 01:54:15 बजे से 03:26:30 तक
    7.लाभ- रात्रि 03:26:30 बजे से 04:58:45 तक (काल वेला निषेध )
    8.उद्वेग – रात्रि 04:58:45 बजे से 06:31 तक

विशेष पर्व
सरस्वती विसर्जन एवं विजयादशमी

राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय ( शास्त्री-आचार्य ,ज्योतिष विद्, बी.ए.)
भू.पू. सहायक आचार्य
श्री ऋषिकुल संस्कृत विद्यालय
श्री डूंगरगढ़
M.N. 9829660721

error: Content is protected !!
विज्ञापन