Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Homeबीकानेरश्री डूंगरगढ़आइए जानते हैं अंग्रेजी नववर्ष 2023 सभी 12 राशियों के लिए कैसा...

आइए जानते हैं अंग्रेजी नववर्ष 2023 सभी 12 राशियों के लिए कैसा रहेगा ? आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ

Samachargarh AD
Samachargarh AD

आइए जानते हैं अंग्रेजी नववर्ष 2023 सभी 12 राशियों के लिए कैसा रहेगा ? आचार्य राजगुरू पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ।

समाचारगढ़ पाठकों की विशेष मांग को ध्यान में रखते हुए आपका आने वाला अंग्रेजी वर्ष 2023 सभी 12 राशियों के लिए कैसा रहेगा आइए जानते हैं सभी राशियों का राशिफल हमारे क्षेत्र के प्रसिद्ध ज्योतिषी राजगुरु पंडित देवीलाल उपाध्याय के पुत्र युवा ज्योतिषी एवं आचार्य राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय के साथ। यह राशिफल कॉपी पेस्ट नहीं बल्कि हमारे क्षेत्र के ही विद्वान द्वारा तैयार किया गया राशिफल है।

पाठकों के संशय की निवृत्ति हेतु विशेष-
जातक अपनी जन्म राशि से राशिफल देखें या प्रचलित नाम से राशिफल देखें ?
विवाह में, सभी संस्कारों में, यात्रा में , ग्रह -गोचर विचार में, जन्म राशि से विचार करना चाहिए नाम राशि से नहीं।
गृह कार्य में, ग्राम वास विचार में, मंत्र ग्रहण करने में, युद्ध के विचार में ,नौकर रखने में, नौकरी करने में नाम राशि से विचार किया जाता है जन्म राशि से नहीं।
यथोक्तं –
विवाहे सर्वसंस्कारे यात्रायां ग्रहगोचरे।
जन्मराशि प्रधानत्वं नामराशिं न चिंतयेत् ।। गृहे ग्रामे तथा मन्त्रे युद्धे वा स्वामिसेवके । नामराशि प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिंतयेत् ।।
मेष
चू-चे-चो-ला,ली-लू-ले-लो,अ,(अश्विनी ४ भरणी ४ कृतिका १)

आपकी राशि के स्वामी ग्रह मंगल महाराज वर्ष की शुरुआत में वृषभ राशि में आपके दूसरे भाव में वक्री अवस्था में विराजमान रहेंगे यह समय आर्थिक रूप से आपको मजबूत बनाएगा और आपकी आर्थिक स्थिति को समृद्ध बनाने में कोई कसर बाकी नहीं रखेगा। लेकिन आपको अपनी वाणी पर विराम देना होगा और संयम से काम लेना होगा अन्यथा आपकी कुछ बातों से आपके अपने रिश्तो में तनाव बढ़ सकता हैं । 21 अप्रैल तक बृहस्पति महाराज द्वादश भाव में रहकर खर्च बढ़ाते रहेंगे लेकिन आपको आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में सक्रिय रखेंगे उच्च शिक्षा के लिए विद्यार्थी विदेश गमन कर सकते हैं और उन्हें सफलता मिलेगी।

साल 2023 की शुरुआत इस राशि के प्रेमी जातकों के जीवन में खुशियां लेकर आएगी आप अपने प्रियतम को हर तरह की खुशी देना चाहेंगे वर्ष की शुरुआत में पंचम भाव के स्वामी सूर्य बुध के साथ नवम भाव में बुध आदित्य योग बनाएंगे और मंगल की दृष्टि पंचम भाव पर होने से आपको अपने रिश्ते में सामंजस्य बिठाने के लिए गुस्से से बचना होगा और अपने प्यार से अपने प्रियतम का दिल जीतना होगा 17 जनवरी को शनि आपके दशम भाव से एकादश भाव में प्रवेश करेंगे तब से आपकी आर्थिक उन्नति आरंभ हो जाएगी 22 अप्रैल के बाद बृहस्पति का प्रथम भाव में गोचर आपके लिए शुभ परिणाम लाएगा । लेकिन कुछ समय तक गुरु चांडाल दोष का प्रभाव समस्या देगा उसके बाद धीरे-धीरे सब कुछ अच्छा होने लगेगा।

वृषभ
ई-उ-ए,ओ-वा-वी-वू,वे-वो(कृत्तिका-३, रोहिणी-४, मृगशिरा-२)
इस वर्ष आपको मध्यम फल प्राप्ति होने की संभावना दिखाई दे रही है साल के शुरूआती महीने में अर्थात् 17 जनवरी 2023 को शनि महाराज नवम भाव से निकलकर दशम भाव में आएंगे और आपके प्रोफेशन जीवन में स्थायित्व लाने का काम करेंगे लेकिन इस वर्ष आपको अपने करियर में बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी और यह मेहनत से भरा साल रहेगा लेकिन यह मेहनत व्यर्थ नहीं जाएगी और आपको बहुत अच्छी सफलताएं प्रदान करेंगी इस वर्ष के मध्य में आपको विदेश यात्राओं के भी योग बनेंगे और अपने काम के सिलसिले में लंबी यात्राएं करनी पड़ सकती है। इसके अतिरिक्त 22 अप्रैल तक बृहस्पति महाराज के एकादश भाव में होने से आपका आर्थिक पक्ष भी मजबूत रहेगा।लेकिन द्वादश भाव में स्थित राहु खर्चे बढ़ाता रहेगा।

  हालांकि इस वर्ष मई से अगस्त के बीच आपके विदेश जाने के योग बनेंगे इस दौरान हद से ज्यादा खर्चे बढ़ जाने से आपकी आर्थिक स्थिति में गिरावट आ सकती है और आप आर्थिक तंगी का शिकार भी हो सकते हैं इसलिए आपको सावधान रहना होगा क्योंकि 22 अप्रैल के बाद से बृहस्पति आपके द्वादश भाव में राहु और सूर्य के साथ युक्त होंगे इस दौरान आपको शारीरिक समस्याएं  भी पैदा कर सकती हैं इस दौरान कोई भी कार्य सोच समझ  करें क्योंकि शासन प्रशासन की तरफ से भी आपको कोई धन मिल सकता है वर्ष के अंतिम 2 महीने अर्थात् नवंबर और दिसंबर आपके लिए बहुत श्रेष्ठ साबित होंगे और आपकी चहुमुखी प्रतिभा का विकास होगा आपको धार्मिक कार्य करने का मौका मिलेगा।

मिथुन
का-की,कु-घ-ड़-छ, के-को-ह (मृगशिरा-२, आर्द्रा-४, पुनर्वसु-३)
ग्रहों की स्थिति इस ओर इशारा कर रही है कि इस वर्ष की शुरुआत आपके लिए कुछ कमजोर रहेगी आर्थिक और शारीरिक रूप से आपको समस्याएं रह सकती हैं। क्योंकि शनि आपके अष्टम भाव में शुक्र के साथ और द्वादश भाव में वक्री मंगल वर्ष की शुरुआत में स्थित होंगे लेकिन यह वर्ष आपकी समस्याओं को दूर करने वाला वर्ष साबित होगा क्योंकि 17 जनवरी को शनि आपके अष्टम भाव से निकलकर नवम भाव में जाएंगे और आपके भाग्य को प्रबल बनाएंगे तथा आपकी ढहिया का अंत हो जाएगा इससे आपके जीवन में आ रहे अवरोध दूर होंगे और आपके स्वास्थ्य में भी सुधार होगा तथा आर्थिक रूप से भी आपके जन संपर्क बनेंगे।

       हालांकि मध्य अप्रैल के बाद बृहस्पति का एकादश भाव में गोचर अर्थात् 22 अप्रैल को बृहस्पति का आपके एकादश भाव में जाना आर्थिक रूप से संपन्नता  प्रदान करेगा लेकिन इस दौरान बृहस्पति और राहु का गठजोड़ आपके लिए ज्यादा अनुकूल परिणाम भी नहीं देगा इसलिए आपको धन प्राप्ति के लिए उल्टे सीधे कदम उठाने से बचना चाहिए अन्यथा आपको बाद में पछताना पड़ सकता है 30 अक्टूबर को राहु का गोचर दशम भाव में होने से कार्यक्षेत्र में कुछ बदलाव भी संभव है और आपकी आर्थिक स्थिति प्रबल होगी क्योंकि बृहस्पति से राहु मुक्त हो जाएंगे।

कर्क
ही,हू-हे-हो-डा,डी-डू-डे-डो (पुनर्वसु-१,पुष्य-४, आश्लेषा-४)
इस साल की शुरुआत में आपकी राशि के योग कारक ग्रह मंगल एकादश भाव में वक्री होकर आपकी आर्थिक स्थिति को मजबूती प्रदान करेगा। आपके प्रयत्न भी बार-बार इसी दिशा में होंगे कि धन प्राप्ति कैसे हो और आप इस दिशा में सफल भी हो गए आपको प्रॉपर्टी के क्रय-विक्रय से भी अच्छा आर्थिक लाभ प्राप्त हो सकता है हालांकि इस दौरान प्रेम संबंधों में कुछ तनाव रहने की संभावना है फिर भी आप अपने प्रियतम को अपने तरीके से मना सकते हैं और उनके दिल को जीत सकते हैं 17 जनवरी से शनि महाराज आपकी अष्टम भाव में प्रवेश करके आपकी ढैय्या शुरू करेंगे इस दौरान मानसिक तनाव थोड़ा बढ़ सकता है लेकिन आपको कार्यक्षेत्र में अच्छे परिणाम मिलने के योग बनेंगे।

  इसके बाद अप्रैल में महत्वपूर्ण ग्रह बृहस्पति आपके नवम भाव से निकलकर दशम भाव में प्रवेश करेंगे जहां पहले से ही राहु महाराज विराजमान होंगे और सूर्य भी स्थित होंगे इस दौरान कार्य क्षेत्र में आपको कोई बड़ा बदलाव दिखाई दे सकता है जो आपके भविष्य को बदल देगा और आपके भविष्य को उज्ज्वल बनाएगा क्योंकि आने वाले समय में जब राहु आपके दशम भाव से निकलकर 30 अक्टूबर को आपके नवम भाव में आ जाएंगे और बृहस्पति अकेले दशम भाव में स्थित होने से आपको अपने करियर में बहुत ऊंचाइयां प्राप्त होंगी और आप अच्छी सफलता अर्जित कर पाएंगे विद्यार्थियों को इस वर्ष विशेष उपलब्धि प्राप्त होने के योग बन रहे हैं अगर आपकी पढ़ाई छूट गई थी तो इस वर्ष पुनः शुरू हो सकती है।।

सिंह
मा-मी-मू-मे,मो-टा-टी-टू-टे (मघा-४,पू.फा.-४,उ.फा.-१)
इस साल सिंह जातकों के लिए मिश्रित परिणाम लेकर आने की संभावना दिखाई दे रही है वर्ष का पूर्वार्ध तो प्रतिकूल ही रहने की संभावना है लेकिन उत्तरार्ध अधिक अनुकूल रह सकता है। वर्ष की शुरुआत में शनि महाराज आपके छठे भाव में रहकर शत्रु हंता बनाएंगे और आप अपने विरोधियों को परेशान करके रख देंगे वह आप पर जीत हासिल नहीं कर पाएंगे लेकिन बृहस्पति महाराज आपके अष्टम भाव में रहकर आर्थिक समस्याओं का कारण बनेंगे धार्मिक रूप से मजबूत बनाएंगे। वर्ष की शुरुआत में आपके राशि स्वामी सूर्य महाराज पंचम भाव में बैठकर आपको उत्तम आर्थिक स्थिति भी प्रदान करेंगे और आपकी शिक्षा में भी महत्वपूर्ण उपलब्धि के योग बनेंगे हालांकि सूर्य और बुध के योग से जो बुधादित्य योग बन रहा है वह आपको ज्ञान प्रदान करेगा और आपको अच्छे विद्यार्थी के तौर पर देखा जाएगा।

    सिंह राशि के जातकों के लिए अप्रैल का महीना बहुत महत्वपूर्ण होगा क्योंकि पंचम भाव के स्वामी बृहस्पति महाराज जो कि आपके अष्टम भाव में बैठे हुए थे 22 अप्रैल को नवम भाव में आकर आपको अचानक से धन  और किसी प्रकार की पैतृक संपत्ति भी प्रदान कर सकते हैं हालांकि यहां राहु गुरु के चांडाल योग के कारण कुछ समय आपको कोई भी बड़ा निर्णय लेने से बचना चाहिए । मई से अगस्त के बीच किसी भी बड़े काम में हाथ डालने से बचना चाहिए नहीं तो समस्या उत्पन्न हो सकती है। अगस्त के बाद से धीरे-धीरे आपका ग्रह गोचर अनुकूलता की ओर बढ़ेगा और आपको सफलता प्रदान करेगा अक्टूबर-नवंबर में तो आप अपने भविष्य की कुछ सफल योजनाओं को बनाने में कामयाब रहेंगे और 30 अक्टूबर को जब राहु अष्टम भाव में आएगा और बृहस्पति अकेले नवम भाव में रहेंगे तो आपकी धार्मिक यात्राओं के योग बनेंगे। तीर्थाटन पर जाने का मौका मिलेगा लेकिन अष्टम भाव का राहु अचानक से आर्थिक हानि मानसिक तनाव या शारीरिक चोट दे सकता है इसलिए इस दिशा में सावधानी बरतें।

कन्या
टो-प-(प्र)-पी,पू-ष-ण-ठ,पे-पो(उ.फा.-३,हस्त-४,चित्रा-२)
कन्या राशि के जातकों के लिए जनवरी माह में मंगल महाराज का गोचर आपके नवम भाव में वक्री अवस्था में चल रहा होगा इस कारण आपको अचानक से कुछ अच्छे परिणाम मिल सकते हैं उसे प्रत्याशित घटनाएं आपके जीवन में घटीत हो सकती है जिनके कारण आपको अपने भाग्य पर विश्वास होगा और कुछ अच्छे परिणाम भी मिल पाएंगे। शनि महाराज वर्ष की शुरुआत में शुक्र के साथ पंचम भाव में रहकर प्रेम संबंधों को प्रगाढ़ बनाएंगे और 17 जनवरी को आपके छठे भाव में जाकर आपके लिए उत्तम स्थिति उत्पन्न करेंगे आपको अपनी नौकरी में अच्छी परिस्थितियों का प्रभाव प्राप्त होगा और पीछे से चले आ रहे द्वंद और परेशानियों का सिलसिला थमने लगेगा। आप अपने विरोधियों को भी धूल चटा देंगे और वह आपको परेशान नहीं कर पाएंगे आपको अपने करियर में सफलता मिलेगी।

  बृहस्पति के सप्तम भाव में बैठे रहने से आपके दांपत्य जीवन में तनाव दूर रहेगा और आप एक दूसरे के निकट महसूस करेंगे इससे आपका रिश्ता और भी प्रगाढ़ होगा इसके बाद अप्रैल के महीने में बृहस्पति महाराज के आप के अष्टम भाव में जाने से आप बहुत ज्यादा धार्मिक हो जाएंगे आपको अपने ससुराल पक्ष के लोगों से भी अच्छे संबंध कायम रखने में सफलता मिलेगी और ससुराल पक्ष के किसी सदस्य का विवाह होने के कारण किसी शादी समारोह में जाने का मौका भी मिलेगा यदि आप विद्यार्थी हैं तो आपको अच्छी सफलता भी प्राप्त होगी लेकिन उसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी शनि महाराज नौकरी के सिलसिले में विदेश यात्रा के योग भी बनाएंगे राहु जो आपके अष्टम भाव में बैठे हैं 30 अक्टूबर को सप्तम भाव में आकर आपके जीवनसाथी को कुछ चंचल बनाएंगे और उनके स्वास्थ्य में कुछ परेशानियां आ सकती हैं इसलिए आपको उनकी स्वास्थ्य समस्याओं पर ध्यान देना होगा।

तुला
रा-री,रू-रे-रो-ता,ती-तू-ते (चित्रा-२, स्वाति-४, विशाखा-३)
तुला राशि के जातकों को नए साल 2023 की शुरुआत में कोई संपत्ति खरीदने का मौका मिल सकता है या अपनी मनपसंद कार खरीदने की शुभकामनाएं प्राप्त हो सकती हैं आपकी संपत्ति में इजाफा होगा और आप अपने कार्य क्षेत्र में जमकर मेहनत करते हुए नजर आएंगे आपके योगकारक ग्रह शनि महाराज 17 जनवरी को आपके चतुर्थ भाव से निकलकर पंचम भाव में प्रवेश करेंगे इस दौरान प्रेम संबंधों की परीक्षा होगी आप अपने रिश्ते में यदि वफादार रहेंगे तो आपका रिश्ता बहुत मजबूत हो जाएगा अन्यथा उसमें बिखराव के योग बनेंगे संतान संबंधी चिंताएं आपको परेशान कर सकती हैं लेकिन इसी दौरान आपकी आर्थिक स्थिति में इजाफा देखने को मिलेगा।

  तुला राशि के विद्यार्थियों के लिए यह साल अच्छी मेहनत से भरा रहने वाला है शनि महाराज आपसे बहुत मेहनत करवाएंगे लेकिन यह मेहनत आपके काम आएगी और आपको आपकी परीक्षाओं में अच्छी सफलता भी दिलाएगी। बृहस्पति महाराज छठे भाव में रहकर शारीरिक समस्याएं प्रदान करते रहेंगे लेकिन 22 अप्रैल के बाद जब वे सप्तम भाव में जाएंगे तो दांपत्य जीवन में आ रही समस्याओं का समापन होगा और आप और आपके जीवनसाथी के बीच निकटता बढ़ेगी आप दोनों अपने घर को एक अच्छा संसार बनाने का प्रयास करेंगे और मिलजुल कर काम करेंगे इस दौरान आपके व्यापार में भी वृद्धि होने के अच्छे योग बनेंगे लेकिन राहु के साथ बृहस्पति की युति के कारण आपको किसी भी उल्टी-सीधी योजना को आगे बढ़ाने से बचना चाहिए अन्यथा इससे आपकी मानहानि भी हो सकती है और आर्थिक हानि भी होने से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। 30 अक्टूबर के बाद जब राहु छठे भाव में जाएंगे तो आपको आपके विरोधियों पर विजय प्राप्त होगी और बृहस्पति के सप्तम भाव में बने रहने से आपका दांपत्य जीवन और व्यापार दोनों सफल रहेंगे।

वृश्चिक
तो,ना-नी-नू-ने,नो-या-यी-यू (विशाखा-१, अनुराधा-४, ज्येष्ठा-४)
वृश्चिक राशि वालों के लिए वर्ष की शुरुआत अच्छी रहेगी क्योंकि आपके अंदर साहस और पराक्रम भरपूर होगा आप व्यापार में भी जोखिम उठाकर अपने व्यापार को आगे बढ़ाएंगे तीसरे भाव में शनि देव की उपस्थिति और पंचम भाव में बृहस्पति की उपस्थिति आपको निजी प्रयासों से उत्तम आर्थिक लाभ प्रदान करेगी शिक्षा के क्षेत्र में भी आप विद्यार्थी के रूप में अच्छी पहचान बना पाएंगे। आप का मन शिक्षा की ओर सहज रूप से झुकेगा आपको अपनी संतान से भी सुखद समाचार की प्राप्ति होगी इससे आपकी संतान उन्नति करेगी। आपके प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी और आप अपने प्रियतम के साथ खुशी भरे पल बिताएंगे इस प्रकार वर्ष का पूर्वार्ध आपके लिए बहुत अनुकूल रहेगा। 17 जनवरी को शनि के चतुर्थ भाव में आने के बाद स्थान परिवर्तन के योग बनेंगे।

   22 अप्रैल को बृहस्पति महाराज आपके छठे भाव में राहु और सूर्य से युति करेंगे इस दौरान आपको स्वास्थ्य से संबंधित समस्याएं परेशान कर सकती हैं आपको उदररोग, डिलीवरी, अमाशय से संबंधित समस्याएं मोटापा, वसायुक्त समस्याएं कोलेस्ट्रॉल बढ़ना और किसी भी तरह की ग्रंथि का बढ़ना, जैसी समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं 30 अक्टूबर के बाद जब राहु राशि परिवर्तन करके पंचम भाव में जाएंगे और बृहस्पति महाराज अकेले छठे भाव में रहेंगे तब आपको कुछ हद तक समस्याओं से मुक्ति मिलेगी विदेश यात्रा के योग बनेंगे।

धनु
ये-यो-भ-भी,भू-ध-फ-ढ, भे (मूल४, पूर्वाषाढ़-४, उत्तराषाढ-१)
धनु राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 अच्छे फल प्रदान करने वाला वर्ष साबित हो सकता है वर्ष की शुरुआत में शनि महाराज दूसरे भाव में होंगे लेकिन 17 जनवरी को तीसरे भाव में आकर आपके साहस और पराक्रम में बढ़ोतरी करेंगे आपके लिए विदेश यात्रा और छोटी दूरी की यात्राओं के योग बनेंगे निजी प्रयासों से उत्तम सफलता दिलाएंगे । 30 मार्च से 27 अप्रैल के बीच आपके राशि स्वामी बृहस्पति महाराज अस्त अवस्था में रहने से कार्यों में कुछ रुकावट आ सकती है और आपको स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ।

      अप्रैल के महीने में बृहस्पति महाराज पंचम भाव में राहु के साथ आकर गुरु चांडाल दोष बनाएंगे इस दौरान आपको सावधानी के साथ अपने प्रेम संबंधों में व्यवहार करना होगा अन्यथा आपके प्रेम संबंधों में भी मतभेद संभव है। इस दौरान  आपको लीवर संबंधित शारीरिक समस्या भी हो सकती है जो परेशानी का कारण बन सकती है। इसके अतिरिक्त यदि आप विवाहित हैं तो आपकी संतान को लेकर भी कुछ समस्याएं सामने आ सकती हैं उनकी संगति बिगड़ सकती है वह गलत लोगों की बातों में आकर कुछ गलत कदम उठा सकते हैं जिसके लिए आपको भी परेशानी झेलनी पड़ सकती है आपको उनकी संगति के साथ-साथ उनकी पढ़ाई पर भी ध्यान देना होगा और उसका स्वास्थ्य भी संभालना होगा 30 अक्टूबर को राहु चतुर्थ भाव में आएंगे और बृहस्पति अकेले पंचम भाव में रहेंगे तथा शनि आपकी तीसरे भाव में रहेंगे यह समय सफलता दायक होगा आर्थिक रूप से भी इस दौरान उन्नति मिलेगी और शारीरिक रूप से भी आप स्वस्थ होने की ओर अग्रसर होंगे।

मकर
भो-जा-जी,खी-खू-खे-खो,ग-गी (उत्तराषाढा-३,श्रवण-४, धनिष्ठा-२)
मकर राशि के जातकों के लिए साल 2023 उत्तम फल प्रदान करने वाला वर्ष साबित हो सकता है वर्ष की शुरुआत में आपकी राशि का स्वामी आपकी ही राशि में रहकर आपको तेजस्वी बनाएंगे और कार्य में सफलता दिलाएंगे उसके बाद 17 जनवरी को शनि आपके दूसरे भाव में जाकर उत्तम आर्थिक स्थिति प्रदान करने वाले ग्रह बन जाएंगे आपके परिवार की वृद्धि होगी आपको आर्थिक लाभ होंगे आपको संपत्ति के क्रय-विक्रय से लाभ होगा कोई नई प्रॉपर्टी खरीदने या घर बनाने में भी सफलता प्राप्त हो सकती हैं। इस दौरान ससुराल पक्ष से कुछ समस्याएं सामने आ सकती हैं लेकिन आपकी आर्थिक स्थिति मजबूत होने से आपके बहुत सारे कार्य सिद्ध होने के आसार प्रतीत हो रहे हैं। इस दौरान आपका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा अप्रैल के महीने में प्रेम संबंधों में प्रगाढ़ता आएगी और भरपूर रोमांस हवाओं में बिखरा नजर आएगा क्योंकि 6 अप्रैल से 1 मई के बीच शुक्र आपके पंचम भाव में होंगे वह आपके पंचम भाव के स्वामी हैं यह समय संतान को भी उन्नति देगा और यदि आप विद्यार्थी हैं तो शिक्षा में भी उत्तम परिणाम प्रदान करेगा।

    अप्रैल में बृहस्पति आपके चतुर्थ भाव में आ जाएंगे पारिवारिक जीवन में थोड़ा बहुत तनाव बढ़ेगा क्योंकि राहु वहां पर पहले से विराजमान रहेंगे 17 जून से 4 नवंबर तक राशि स्वामी शनि वक्री अवस्था में रहेंगे इसलिए इस दौरान शारीरिक रूप से कुछ समस्याएं सामने आ सकती हैं और आपके आत्मविश्वास में कमी हो सकती है फिर भी अन्य ग्रहों की वजह से आपको सफलता मिलती रहेगी 3 नवंबर से 25 दिसंबर के बीच करियर में उत्तम सफलता के योग बनेंगे।

कुंभ
गू-गे,गो-सा-सी-सू,से-सो-द (धनिष्ठा-२, शतभिषा-४,पू.भा.-३)
कुंभ राशि के जातकों के लिए यह वर्ष उन्नति के नए मार्ग खोलने वाला रहेगा। वर्ष की शुरुआत में शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं और खर्चों की वृद्धि भी हो सकती है लेकिन 17 जनवरी को आपके राशि स्वामी शनिदेव आपकी ही राशि में आ जाएंगे जिससे आपको बहुत ज्यादा अनुकूल परिणामों की प्राप्ति होगी। आपको विदेशी व्यापार से भी लाभ होगा। विदेशी संपर्कों के लाभ से आपको आर्थिक लाभ मिलने के योग बनेंगे। आपकी राशि स्वामी के स्वराशि में आगमन से आपको सफलता मिल सकती है। आप अनुशासित होकर कार्य क्षेत्र में काम करेंगे। नए- नए व्यापारिक समझौते होंगे। नए लोगों से मेल मुलाकात होगी जो आपके व्यापार को भी बढ़ाएंगे। दांपत्य जीवन में तनाव को हल करने के लिए आप कोई बड़ा कदम उठाएंगे और स्वयं को अनुशासित रखने का प्रयास करेंगे।

     २१ अप्रैल को बृहस्पति आपके  तीसरे भाव में गोचर करेंगे। भाई बहनों को शारीरिक समस्याएं और अन्य क्षेत्रों में कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन आपके साहस और पराक्रम में बढ़ोतरी होगी। छोटी दूरी की यात्राओं में बढ़ोतरी होने के योग बनेंगे। कुछ धार्मिक यात्राएं भी होंगी जो आपका मानसिक तनाव दूर करेंगी। आपको शांति और सुकून प्रदान करेंगी। अप्रैल से मई के बीच पारिवारिक सुखों में बढ़ोतरी होगी। कोई नया वाहन खरीदने के योग बनेंगे। खर्चों में कमी रहेगी और आर्थिक स्थिति मजबूत रहेगी। वर्ष के अंतिम दिनों में 30 अक्टूबर के बाद राहु के दूसरे भाव में जाने से कुटुंब में कुछ समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।

मीन
दी,दू-थ-झ-ञ, दे-दो-चा-ची (पू.भा.-१,उ.भा.-४, रेवती-४)
मीन राशि के जातकों के लिए वर्ष 2023 उतार-चढ़ाव युक्त साबित हो सकता है वर्ष की शुरुआत तो बहुत अनुकूल होगी क्योंकि आपके राशि स्वामी देवगुरु बृहस्पति आपकी ही राशि में रहकर आपको हर समस्या से बचाएंगे आपको मजबूत निर्णय शक्ति प्रदान करेंगे जिससे आप अपने ज्ञान के सहारे बहुत बड़ी समस्याओं को भी पार कर लेंगे चाहे आपका कैरियर हो या आपका निजी जीवन, आपकी संतान से संबंधित कोई बात हो या भाग्य का गठजोड़ सभी में आपको बृहस्पति महाराज की कृपा से सफलता मिलेगी लेकिन 17 जनवरी को शनिदेव आपके द्वादश भाव में प्रवेश करेंगे इस दौरान पैर में चोट लगने या पैर में दर्द, आंखों में पीड़ा, आंखों से पानी बहना, बहुत अधिक नींद आना, अप्रत्याशित खर्च और शारीरिक समस्याओं के योग बन सकते हैं इसलिए सावधानी रखना बेहद आवश्यक होगा।

         22 अप्रैल को राशि स्वामी बृहस्पति दूसरे भाव में जाकर राहु से गठजोड़ करेंगे और मई से अगस्त के बीच आप को विशेष रूप से गुरु चांडाल दोष का प्रभावित कर सकता हैं जिससे आपकी स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं बढ़ सकती हैं आपके कुटुंब में कुछ तनाव बढ़ेगा पारिवारिक विवाद बड़ा रूप धारण कर सकता हैं इसके लिए आपको अपनी समझदारी से काम लेना होगा यदि आप कोई पैतृक व्यवसाय करते हैं तो इस दौरान उसमें भी समस्या आ सकती है जब राहु 30 अक्टूबर को दूसरे भाव से निकलकर आपकी राशि में प्रवेश करेंगे और बृहस्पति महाराज अकेले दूसरे भाव में होंगे तब आर्थिक उन्नति होगी कुटुंब में चल रही समस्याओं का अंत होगा आपको राहत महसूस होगी और शारीरिक समस्याओं में भी कमी आएगी।

 राजगुरु पंडित रामदेव उपाध्याय

(शास्त्री- आचार्य, ज्योतिष विद् )
09829660721

Samachargarh AD
RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
विज्ञापन