Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD
HomeFrontचार दिन पहले जिस आंगन में गाए जा रहे थे मंगल गीत...

चार दिन पहले जिस आंगन में गाए जा रहे थे मंगल गीत वहां मचा कोहराम, हर कोई स्तब

Samachargarh AD
Samachargarh AD
Samachargarh AD

समाचार गढ़, श्रीडूंगरगढ़। कहते हैं होनी को कोई टाल नहीं सकता, होनी होकर ही रहती है।
जिस आंगन में चार दिन पहले तक मंगल गीत गाए जा रहे थे आज उसी आंगन में महिलाओं तथा बच्चों सहित परिवार के सदस्यों की रोने की आवाज हर ग्रामीण को द्रवित कर रही थी ग्रामीण परिवार के सदस्यों को सांत्वना दे रहे हैं।
श्रीडूंगरगढ़ के नारसिसर गांव के निवासी रामदास के परिवार में चार दिन पहले तक खुशी खुशी मंगल गीत गाए जा रहे थे आज उसी घर में बैठे ग्रामीण विधाता को कोस रहे है। ग्रामीणों की जुबान पर एक ही शब्द बार-बार आ रहा कि हंसते खेलते शादी की खुशियां मना रहे परिवार को आखिरकार किस की बुरी नजर लग गई ।
चार दिन पहले रामदास की लड़की एवं लड़के की शादी थी परिवार में हंसी खुशी का माहौल था आज परिवार के सदस्य शादी की खुशी में अपनी नवविवाहित लड़की एवं पुत्र वधू को भोमिया जी महाराज के धोक दिलवाने तथा मायरा मीठा करने के लिए रामदास के ससुराल पुंदलसर गांव आ रहे थे लेकिन परिवार के सदस्यों को क्या पता था कि हंसी खुशी से घर से रवाना हुए परिवार पर काल पहरा साथ चल रहा है और परिवार रोता हुआ वापस अपने गांव पहुंचेगा । परिवार के सदस्य फोर व्हीलर टैक्सी में सवार होकर पुंदलसर गांव आ रहे थे जब टैक्सी लखासर जोधासर गांव के बीच पहुंची तो अनियंत्रित होकर पलटी खा गई । उसी समय वहां से गुजर रहे सातलेरा निवासी ट्रक ड्राइवर गिरधारी लाल जाखड़ ने ट्रक को रोककर अन्य लोगों की मदद से घायलों को टैक्सी से निकालकर एक निजी गाड़ी से घायलों को हॉस्पिटल रवाना किया । इस हादसे में रामदास की पत्नी की दर्दनाक मौत हो गई वही रामदास की नव विवाहित पुत्री एवं नवविवाहित पुत्र वधू हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गए । हादसे की खबर जैसे ही गांव में पहुंचे तो घर मे कोहराम मच गया । हादसे की खबर पाकर हर ग्रामीण की आंख नम हो गई ।
ग्रामीण शिव सिंह ने बताया कि गरीब रामदास के परिवार पर मानो दुखों का पहाड़ ही टूट पड़ा है। जैसे तैसे करके गुजर बसर करने वाले इस परिवार के साथ काल ने बहुत ही क्रूर खेल खेला है। ग्रामीण रामदास के घर इकट्ठे बैठे बार-बार भगवान को कोस रहे हैं कि आखिर रामदास ने ऐसा क्या बुरा किया था कि आज रामदास के घर में कोहराम मचा है।
जिस टैक्सी में रामदास का परिवार सवार था वह टैक्सी भी परिवार के ही किसी सदस्य की बताई जा रही है। परिवार सहित गांव के ग्रामीण भी हॉस्पिटल पहुंच चुके हैं। तो कुछ ग्रामीण रामदास के घर परिवार के सदस्यों को दिलासा बंधा रहे हैं।

Samachargarh AD
RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!
विज्ञापन