Nature Nature Nature Nature Nature Nature Nature प्रसिद्ध लेखक, साहित्यकार, पत्रकार डॉ. चेतन स्वामी की कलम से मोमासर में सोख्ता गड्ढा का अभिनव प्रयोग - Homepage
Nature Nature Nature Nature Nature Nature Nature

प्रसिद्ध लेखक, साहित्यकार, पत्रकार डॉ. चेतन स्वामी की कलम से मोमासर में सोख्ता गड्ढा का अभिनव प्रयोग

समाचार- गढ़, श्रीडूंगरगढ़। पर्यावरण संरक्षण और जल संचयन आधुनिक युग की दो बड़ी चुनौतियां हैं। इनके प्रति जो आबादी समय रहते सजग नहीं हो रही है, वह अवहेलना अगली पीढ़ियों के लिए अत्यधिक दुखदाई रहेगी।
मोमासर की ऊंची-नीची, टेढी-मेढी गलियों में घरों से बहकर बाहर गली में फैलने वाले पानी की वजह से जगह-जगह कीचड़ स्थल बने हुए थे। पैदल आदमी बड़ी मशक्कत के बाद ही गली पार कर पाता। मोमासर ऐसा गांव है, जहां हर घर में सरकारी पानी की उपलब्धता है। जल उपभोग में मितव्ययता का सेंस पचास वर्ष पहले था। वर्तमान पीढ़ी गाफिल है। इस गाफिलपन ने हमें मलेरिया, डेंगू, एलर्जी जैसी अनेक बीमारियां प्रदान की है। मच्छरों के संरक्षण-संवर्धन में कीकर और कीचड़ की बड़ी भूमिका रहती है। इसे जानता तो अनपढ़ से अनपढ़ व्यक्ति है, पर उन्मूलन की सूझ मोमासर को आई। दो वर्ष पहले मोमासर को कीकर मुक्त किया गया तथा इसके लिए एक स्थाई व्यवस्था करदी गई है। कीचड़ को रोकने के लिए यहां गांव की समस्त गलियों में घरों के आगे वैज्ञानिक तरीके से लगभग 1000 सोख्ता गड्ढों का निर्माण किया गया है। गलियों में फैलनेवाला वह ड्रेन वाटर अब उन बंद गड्ढों में चला जाता है। अब गलियां साफसुथरी रहने लगी है। मच्छरों पर रोक लगी है। गांव की सुन्दरता बढ़ गई। सबसे बड़ी बात है कि इन गड्ढों द्वारा शोषित जल से भूगत जल स्तर में वृद्धि होगी। जल संवर्धन और पुनर्भरण की इस तकनीक का प्रयोग बहुत ही उत्तम है। सिस्टम से बना एक सोख्ता गड्ढा दस वर्षों तक निर्बाध कार्य करता है तथा प्रति दिन प्रत्येक गड्ढे की जल चोसण क्षमता 500 लीटर जल की होती है। गलियों में जल अधिक बहने से मकानों की दीवारों में रहनेवाली नमी से भी छुटकारा मिलेगा। मोमासर में सोख्ता गड्ढों का कार्य पंचायत समिति के माध्यम से किया गया है। यहां के सरपंच पति श्री जुगराज संचेती गांव के विकास हेतु अहर्निश लगे रहते हैं। उनकी लगन नमनीय और प्रेरणीय है। गांव के प्रति उनके समर्पण को बताने के लिए एक अलग लेख की आवश्यकता रहेगी। अब गांवों को आगामी जीवन के लिए भूमि, जल, पर्यावरण जैसे विषयों के बारे में गंभीरता से सोचना होगा, शहर तो सडांध के पर्याय बन ही चुके हैं।

  • Ashok Pareek

    Related Posts

    गर्मियों में ये रसीला फल आपकी आँखों की बढ़ाएगा रोशनी, यहां जानें अन्य फायदे

    समाचार गढ़, 20 जुलाई 2024। भारत में आम के कई प्रकार आपको मिल जाएंगे। आम एक रसदार स्वादिष्ट फल है जिसे सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। गर्मियों…

    जानें दिनांक 20 जुलाई 2024 का पंचांग व कुछ ख़ास बातें

    दिनांक 20 जुलाई 2024 का पंचांग

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    You Missed

    गर्मियों में ये रसीला फल आपकी आँखों की बढ़ाएगा रोशनी, यहां जानें अन्य फायदे

    गर्मियों में ये रसीला फल आपकी आँखों की बढ़ाएगा रोशनी, यहां जानें अन्य फायदे

    जानें दिनांक 20 जुलाई 2024 का पंचांग व कुछ ख़ास बातें

    जानें दिनांक 20 जुलाई 2024 का पंचांग व कुछ ख़ास बातें

    खड़ी जीप में गिरी मोटरसाईमिल, दो जनें घायल

    खड़ी जीप में गिरी मोटरसाईमिल, दो जनें घायल

    नाबालिग बालिका को उठा ले गया युवक, छेड़छाड़ करते हुए की गंदी हरकत, पढ़े अपराध ख़बर

    नाबालिग बालिका को उठा ले गया युवक, छेड़छाड़ करते हुए की गंदी हरकत, पढ़े अपराध ख़बर

    छात्रसंघ चुनाव विद्यार्थियों का अधिकार – एसएफआई, सौंपा ज्ञापन

    छात्रसंघ चुनाव विद्यार्थियों का अधिकार – एसएफआई, सौंपा ज्ञापन

    बिजली कंपनियों के जॉइंट सेक्रेटरी ने जारी किए आदेश, प्रबंधन से जुड़े बड़े पदों के लिए फिर से खोले गए आवेदन

    बिजली कंपनियों के जॉइंट सेक्रेटरी ने जारी किए आदेश, प्रबंधन से जुड़े बड़े पदों के लिए फिर से खोले गए आवेदन
    Social Media Buttons
    Telegram
    WhatsApp
    error: Content is protected !!
    Verified by MonsterInsights